SIM Card New Rule: सिम कार्ड धारकों के लिए बुरी खबर, TRAI ने जारी कर दिए नए नियम, अब नहीं चलेगी मनमानी

SIM Card New Rule: सिम कार्ड धारकों के लिए बुरी खबर, TRAI ने जारी कर दिए नए नियम, अब नहीं चलेगी मनमानी: आप लोग भी यदि मोबाइल पर ग्राहक है और सिम कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो आपको सावधान रहने की आवश्यकता है क्योंकि टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया यानी कि TRAI ने सिम कार्ड को लेकर एक बड़ा बदलाव करने का ऐलान भी कर दिया है जिसे 1 जुलाई 2024 से लागू कर दिया जाएगा, यह नियम खास उन लोगों के लिए भी है जो भारत में सिम कार्ड का उपयोग कर रहे हैं.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

अब ऐसे में ट्राई के द्वारा जारी किए गए नए नियमों का पालन करना हर किसी ग्राहक के लिए अनिवार्य हो जाएगा अब सरकार के द्वारा यह फैसला तेजी से बढ़ रही फ्रॉड की घटनाओं पर लगाव लगाने के लिए लिया जा रहा है यदि आपने हाल फिलहाल में कोई भी नया सिम कार्ड को स्वेप करवाया है या फिर ऐसा करने का कोई भी प्लान तैयार कर रहे हैं तो आप लोगों को इन बातों को ध्यान में अवश्य रखना होगा।

जब निर्देशक की वजह से नीना गुप्ता को होना पड़ा शर्मिंदा, पहना दी थी हैवी पैडेड ब्रा…

अब अपने नंबर को नहीं करवा पाएंगे पोर्ट

जारी हो रही नए नियम के अनुसार सिम स्वैप करने के बाद ग्राहक अपना मोबाइल नंबर भी दूसरी कंपनी में पोर्ट नहीं करवा पाएंगे जिसका मतलब तो यह होता है कि यह अपने नंबर को किसी अन्य टेलीकॉम कंपनी में स्विच बिल्कुल भी नहीं कर सकते हैं यह सब सुनिश्चित करने के लिए यह नियम ग्राहक को साइबर फ्रॉड से बचाने में मदद भी साबित करेगा।

वही साइबर फ्रॉड के मामले में स्कैमर बार-बार सिम कार्ड बदलने यानी कि स्वॅपिंग का उपयोग करके यूजर्स को ठगते रहते हैं सिम स्वॅपिंग के बाद यूजर्स के सभी कॉल मैसेज और ओटीपी दूसरे फोन नंबर पर प्राप्त होने लग जाते हैं जिससे उनको धोखा हो सकता है.

ग्राहक को इन सभी नियमों का पालन करने के लिए काफी ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता है और अपने सिम कार्ड को सुरक्षित रखने के लिए अत्यंत पूर्ण जिम्मेदारी से कदम उठाने चाहिए।

आखिर कैसे होती है सिम स्वॅपिंग?

आसान शब्दों में समझें तो सिम स्वैपिंग का सीधा सा मतलब है डुप्लीकेट सिम निकलवाना। धोखाधड़ी के इस तरीके में साइबर अपराधियों को यूजर का डुप्लीकेट सिम मिल जाता है। उपयोगकर्ता के मोबाइल नंबर के साथ एक नया सिम पंजीकृत किया जाता है।

इसके बाद यूजर के पास मौजूद सिम बंद हो जाती है और ठग दूसरा सिम निकलवा लेते हैं और यहीं से खेल शुरू हो जाता है। जालसाज उस डुप्लीकेट सिम का इस्तेमाल अपने डिवाइस में करते हैं।

जालसाज यूजर के नंबर पर आने वाले कॉल, मैसेज और ओटीपी तक पहुंच हासिल कर लेते हैं। यहां से जालसाज बैंकिंग फ्रॉड करने के साथ-साथ कई तरह की निजी जानकारियां भी हासिल कर लेते हैं।

About Khabar Bharat Tak 788 Articles
खबर भारत तक एक एंटरटेनमेंट की वेबसाइट है और इस वेबसाइट से मैं पिछले काफी समय से जुड़ा हुआ हूं. मुझे बॉलीवुड, मनोरंजन, ब्लॉग, टेक्निकल आदि आर्टिकल की नॉलेज है. मैं आपके सामने इन सभी कैटिगरी की जानकारी लेकर आता हूं ताकि आपको देश-विदेश में चल रही सभी गतिविधियों के बारे में पता चल सके.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*