Breaking News

आज मोदी करते हैं हौसला अफजाई, हमें तो कोई पूछने वाला नहीं था, पूर्व खिलाड़ी ने की मोदी सरकार की जमकर तारीफ

भाला फेंक स्टार एथलीट नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतकर भारतीय खेलों में 7 अगस्त के दिन को ऐतिहासिक बना दिया। उन्होंने भारत को पहली बार एथलेटिक्स में ओलंपिक पदक दिलाया। यह ओलंपिक भारत के लिए बेहद यादगार रहा। कुल 127 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया, जिसमें अब तक 7 मेडल जीतकर रिकॉर्ड बनाया है। ओलंपिक को लेकर पीएम मोदी भी काफी उत्साहित दिखे। समय-समय पर वह खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाते नजर आए। हाल ही में उन्होंने भारतीय हॉकी टीम की हार पर खिलाडिय़ों से बातचीत कर उन्हें सांत्वना दी, वहीं गोल्ड लाने वाले नीरज चोपड़ा को बधाई देने में भी उन्होंने देर नहीं की। पूर्व एथलीट अंजू बॉबी जॉर्ज ने खेलों को बढ़ावा देने के लिए मोदी सरकार की तारीफ की है.

अंजू बॉबी जॉर्ज ने अपना अनुभव साझा करते हुए कहा कि आज पहली बार ऐसा हो रहा है जब केंद्र सरकार खिलाड़ियों को इस तरह प्रोत्साहित कर रही है, अन्यथा उनके समय में देश विश्व चैंपियनशिप में पदक जीतकर जश्न मनाता था, लेकिन खेल मंत्रालय ऐसा दिखावा करते थे कि यह कोई बड़ी बात नहीं है। उन्होंने कहा कि अब प्रधानमंत्री खुद टूर्नामेंट से पहले खिलाड़ियों से एक-एक करके बात करते हैं और उनका हौसला बढ़ाते हैं.

‘अर्जुन अवॉर्ड’, ‘मेजर ध्यानचंद खेल रत्न अवॉर्ड’, ‘पद्म श्री’ और ‘बीबीसी लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड’ से सम्मानित अंजू बॉबी जॉर्ज केंद्र सरकार में खेल मंत्री खुद खिलाड़ियों पर ध्यान देते हैं. उन्होंने बताया कि मोदी सरकार में खेल मंत्री रहे किरेन रिजिजू खुद खेल के क्षेत्र से थे और जब भी जरूरत होती थी मौजूद रहते थे.

https://www.youtube.com/watch?v=UAnSIVXpmo8&t=2s

उन्होंने बताया कि नए खेल मंत्री अनुराग ठाकुर भी खिलाड़ियों की जरूरतों को समझते हैं. 2003 में पेरिस में विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में लंबी कूद में कांस्य पदक जीतने वाली अंजू बॉबी जॉर्ज ने कहा कि ऐसा नहीं है कि आज की सरकार पदक जीतने के बाद ही खिलाड़ियों को प्रोत्साहित कर रही है, बल्कि वे शुरू से ही उनके साथ हैं। तैयारी के दौरान उनकी मदद भी की जाती है।

पूर्व एथलीट ने बताया कि कैसे खिलाड़ी सरकार और खेल मंत्रालय से उनका समर्थन करने की उम्मीद करते हैं। उन्होंने कहा कि इसके परिणाम भी देखे जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जमीनी स्तर पर भी योजना बनाई जा रही है और अभी से 2028 और 2032 ओलंपिक की तैयारी चल रही है. अंजू बॉबी जॉर्ज के मुताबिक अगर इसी तरह का समर्थन जारी रहा तो भारत का प्रदर्शन और बेहतर होगा.

सिस्टम कैसे बदला है, इस पर सोनी स्पोर्ट्स इंडिया से बात करते हुए अंजू बॉबी जॉर्ज ने कहा कि जब खिलाड़ियों को सिस्टम में स्थान दिया जाता है, तो वे जानते हैं कि बदलाव कैसे लाया जाए। उदाहरण के लिए, राज्यवर्धन सिंह राठौर ने खेल मंत्री रहते हुए कई योजनाओं को लागू किया। उन्होंने कहा कि खेल संघों और प्रशासन में और खिलाड़ियों की जरूरत है, ऐसा अमेरिका जैसे देशों में भी हो रहा है. अंजू बॉबी जॉर्ज खुद ‘टारगेट ओलंपिक पोडियम स्कीम’ की चेयरपर्सन हैं।

Check Also

Google ने दिया भारत की जनता को बड़ा तोहफ़ा, सबसे प्राचीन भाषा संस्कृत समेत भोजपुरी, और मैथली भाषा को गूगल ट्रांसलेट में शामिल किया।

जैसा की आप सबको मालूम है संस्कृत हमारी सभ्यता की सबसे पुरानी भाषा है और …

Leave a Reply

Your email address will not be published.