Breaking News

मुकेश अंबानी की ये दिवालिया कंपनी हुई मालामाल,शेयर धारको की भी हुई बल्ले-बल्ले इतने रु हो गया एक शेयर

दुनिया भर के शेयर बाजार इन दिनों भारी बिकवाली का सामना कर रहे हैं। अमेरिकी शेयर बाजार में अफरातफरी का माहौल है। अमेरिकी बाजार पिछले कुछ दिनों से खूनखराबे के दौर से गुजर रहा है। इस दौरान एक शेयर ऐसा भी है जिसने बंपर रिटर्न देकर अपने निवेशकों को चौंका दिया है. यह शेयर अमेरिकी कॉस्मेटिक कंपनी रेवलॉन इंक. (रेवलॉन इंक) का है। रेवलॉन स्टॉक पिछले तीन-चार दिनों से रॉकेट की तरह चल रहा है। इस शेयर का रिटर्न देखकर निवेशक खुद हैरान हैं. आपको बता दें कि शेयरों में तेजी के पीछे भारत के सबसे अमीर बिजनेसमैन मुकेश अंबानी का हाथ है। आइए जानते हैं डिटेल में…

चार दिनों में रेवलॉन (आरईवी) का शेयर 1.17 यूएसडी (अमेरिकी डॉलर) (यानी 91.34 रुपये) से बढ़कर 3.73 यूएसडी (291.19 रुपये) हो गया। इस दौरान इसमें 2.56 डॉलर (₹199.85 भारतीय रुपये) की बढ़ोतरी हुई है। प्रतिशत के लिहाज से देखा जाए तो चार कारोबारी दिनों में इस शेयर में 218.8% की तेजी आई है। आपको बता दें कि इस शेयर की कीमत 13 जून से 17 जून के बीच है।

द न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज के अनुसार, एक कारोबारी सत्र में स्टॉक में 91.28% की तेजी आई है। 16 जून को यह शेयर 1.95 यूएसडी (यानी 152.11 रुपये) पर बंद हुआ था। अगले दिन 17 जून को यह शेयर 3.73 USD (291.19 रुपये) पर बंद हुआ। यानी एक दिन में यह शेयर बढ़कर 1.78 डॉलर (138.85 रुपये) हो गया।

मुकेश अंबानी खरीद रहे हैं कंपनी?

खबर है कि मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज अमेरिकी कंपनी रेवलॉन इंक का अधिग्रहण करने की योजना बना रही है। आपको बता दें कि अमेरिका की सौंदर्य प्रसाधन निर्माता कंपनी रेवलॉन दिवालिया होने की कगार पर पहुंच गई है। रेवलॉन ने दिवालियेपन के लिए आवेदन किया है। इसके बाद खबर है कि मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज ने रेवलॉन को खरीदने में दिलचस्पी दिखाई है। उसके बाद से कंपनी के शेयरों में लगातार उछाल आ रहा है।

90 साल पुरानी कंपनी

कंपनी का एक लंबा इतिहास रहा है। कंपनी अपने शुरुआती दिनों में नेल पॉलिश का कारोबार करती थी। लेकिन 1955 में कंपनी ने लिपस्टिक के कारोबार में उतरने का फैसला किया। कृपया ध्यान दें, यह एक अंतरराष्ट्रीय ब्रांड है। इसकी कंपनी का स्वामित्व अरबपति उद्योगपति रॉन पेरेलमैन के पास है। कोविड 19 की वजह से कंपनी की सप्लाई चेन बुरी तरह प्रभावित हुई। लोगों ने घर से निकलना बंद कर दिया, जिससे लिपस्टिक जैसी चीजों की खपत कम हो गई। इससे कंपनी के राजस्व पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा। अब जबकि सब कुछ धीरे-धीरे सामान्य हो रहा है, स्टार्टअप्स और नए ब्रांड्स ने इस सेगमेंट में पहले की तुलना में प्रतिस्पर्धा बढ़ा दी है। जिसकी पुरानी जगह आसान नहीं हो रही है। मार्च तिमाही के अंत में कंपनी पर 3.31 अरब डॉलर का कर्ज था।

Check Also

दिल्ली समेत पुरे उत्तर भारत में हो रही है झमा-झम बारिश करोड़ो लोगो के साथ किसानो के चेहरे पर भी आई मुस्कान

बीते कई दिनों से उमस के साथ उमस का सामना कर रहे लोगों के लिए …

Leave a Reply

Your email address will not be published.