Breaking News

पाकिस्तान में ऐसी महिलाएं भी है जो गैर मर्द पसंद आते ही तोड़ देती है शादी।

पाकिस्तान के अफगानिस्तान से सटे बॉर्डर पर एक जनजाति रहती है। जिसमें पाकिस्तान की संस्कृति से बिल्कुल अलग रीति-रिवाज हैं। इस जनजाति का नाम कलश है। इस जनजाति की आबादी मात्र 4 हजार है लेकिन इसकी महिलाएं बहुत ही स्वतंत्र रूप से रहती हैं। शादी से लेकर शादी तक हर चीज में ये ऐसे रहते हैं कि आप हैरान रह जाएंगे।

पाकिस्तान के अफगानिस्तान से लगी सीमा से सटी कलशा जनजाति की गिनती पाकिस्तान में सबसे कम अल्पसंख्यकों में होती है। इस जनजाति के सदस्यों की संख्या लगभग साढ़े चार हजार है। यह अपने अजीबोगरीब और कुछ मामलों में आधुनिक परंपराओं के लिए जाना जाता है, जैसे कि इस समुदाय की महिलाएं गैर-पुरुष को पसंद करने पर अपनी शादी समाप्त कर देती हैं। जानिए इस समुदाय की कुछ खासियतें।

कलशा समुदाय खैबर-पख्तूनख्वा प्रांत में चित्राल घाटी के बंबूरेट, बिरिर और रामबुर इलाकों में रहता है। यह समुदाय हिंदू कुश पहाड़ों से घिरा हुआ है और यह मानता है कि इस पर्वत श्रृंखला से घिरा होने के कारण इसकी सभ्यता और संस्कृति सुरक्षित है। इस पर्वत के कई ऐतिहासिक संदर्भ भी मिलते हैं, जैसे इस क्षेत्र में सिकंदर की जीत के बाद इसे कौकासूश इंदिकोश कहा जाने लगा। ग्रीक में इसका मतलब हिंदुस्तानी पर्वत है। उन्हें सिकंदर महान का वंशज भी माना जाता है।

साल 2018 में पहली बार पाकिस्तान की जनगणना के दौरान कलशा जनजाति को एक अलग जनजाति के रूप में शामिल किया गया था। इस गणना के अनुसार इस समुदाय में कुल 3,800 लोग शामिल हैं। यहां के लोग मिट्टी, लकड़ी और मिट्टी के बने छोटे-छोटे घरों में रहते हैं और किसी भी त्योहार पर स्त्री-पुरुष सब मिलकर शराब पीते हैं। इस जनजाति में संगीत हर मौके को खास बनाता है। वे त्योहार के दौरान बांसुरी और ढोल बजाते हुए नाचते और गाते हैं। हालांकि, अधिकांश अफगानों और पाकिस्तान के डर के कारण, वे पारंपरिक हथियारों से लेकर अत्याधुनिक तोपों तक ऐसे मौकों पर रखते हैं।

कलशा जनजाति में घर के लिए कमाई का काम ज्यादातर महिलाएं ही संभालती हैं। वे भेड़ चराने के लिए पहाड़ों पर जाते हैं। घर पर पर्स और रंग-बिरंगी मालाएं बनाई जाती हैं, जिन्हें पुरुषों द्वारा बेचा जाता है। यहां की महिलाओं को साज-सज्जा का बहुत शौक होता है। सिर पर एक विशेष प्रकार की टोपी और गले में पत्थरों की रंगीन माला पहनती है।

साल में तीन त्यौहार होते हैं – कैमोस, जोशी और उचाव। इनमें से कैमोस सबसे बड़ा त्योहार माना जाता है जो दिसंबर में मनाया जाता है। यही वह अवसर होता है जिसमें महिला-पुरुष और लड़के-लड़कियां एक-दूसरे से मिलते हैं। इस दौरान कई लोग रिलेशनशिप में आ जाते हैं। हालांकि, इस जनजाति के लोग रिश्तों को लेकर इतने खुले होते हैं कि अगर महिलाएं किसी दूसरे पुरुष को पसंद करती हैं तो वे उसके साथ रह सकती हैं।

पाकिस्तान जैसे देश में जहां महिलाएं आजादी के मुद्दे पर फतवा भी ला सकती हैं, वहां इस वर्ग की महिलाओं को अपना पसंदीदा साथी चुनने की पूरी आजादी है। वे एक पति चुनते हैं, साथ रहते हैं, लेकिन अगर वे शादी में अपने साथी से खुश नहीं हैं और कोई और उन्हें पसंद करता है, तो वे बिना किसी उपद्रव के दूसरे के साथ जा सकते हैं।

हालांकि आधुनिक तरीकों के बाद भी महिलाओं पर कई तरह की पाबंदियां हैं। मसलन, पीरियड्स के दौरान उन्हें घर के बाहर बने घर में रहने को मजबूर होना पड़ता है. इस दौरान उन्हें अशुद्ध माना जाता है और ऐसा माना जाता है कि अगर वे घर में रहेंगे या परिवार के सदस्यों को छूएंगे तो भगवान नाराज हो जाएंगे, जिससे बाढ़ या अकाल जैसी स्थिति पैदा हो सकती है। इसे बसाली घर कहा जाता है, जिसकी दीवार पर यह लिखा होता है कि इसे छूना मना है।

Check Also

VIDEO: जब दोस्तों की शर्तें की वजह से टॉपलेस होकर मैदान में घुस गई महिला, इंटरनेट पर वीडियो ने मचाई सनसनी..

खेल का मैदान एक ऐसी जगह है जहां पर मौज मस्ती की कोई भी लिमिट …

Leave a Reply

Your email address will not be published.