मुगलो का काला सच मुगल अपनी रंगीन रातो के लिए तैनात करते थे इतनी हजार महिलाएं और हर रोज निकलते महिलाओं के जनाजे।

आपने शायद कभी सुना होगा कि कोई राजा इतना ज्यादा रंगीला है कि हरम में महिला को बुलाता है और बाद में हरम से उस महिला की लाश थी बाहर जाते हैं यह बात जानकर हर कोई हैरान तो रह जाएगा! लेकिन यह बात बिल्कुल सच है दरअसल कुछ शताब्दियों पर राजा अकबर का राज हुआ करता था जिनका जलवा देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी हुआ करता था जिनके हुकुम पर हर वर्ग मानते थे! वहीं राजा का महल भी किसी फाइव स्टार बिल्डिंग से कम नहीं होता था ऐसे में राजा के शौक भी बड़े नामी लोगों से कम नहीं थे वही राज महल के हरम स्थान की चर्चा और सत्यता भी किसी से छुपी हुई नहीं है इसी हरम में मखमली पर्दो से सुसज्जित स्थान हर किसी के लिए हैरान कर देने वाला था!

ऐसे में हरम में हर उम्र की महिला का आना जाना लगा ही रह यहां जब बादशाह की एंट्री होती थी तो सुंदर सुंदर सिंगार महिलाएं सेवा में लग जाती थी ऐसी स्थिति में राजा की रात बड़ी हसीन बिता कर दी थी वही राजा की मर्जी होती थी कि वह रात बिताने के लिए किस महिला को चुन ले और रानी भी चुपचाप देखती रहती थी!

वही बता दे कि अकबर युग में कुछ ऐसे शब्द हुआ करते थे जिनका अर्थ निकालना आज की पीढ़ी के लिए काफी मुश्किल है अब जब चर्चा हरम की हो रही है तो जिसका मतलब आप सब जानते ही हैं हरम एक अरबी भाषा का शब्द है इसका मतलब एक ऐसा स्थान होता था जो किसी को पता ना हो वही मुगल राज में इस स्थान पर सुंदर सुंदर महिला होती थी! वही अपनी किताब आईने अकबरी को लेकर अबुल फजल ने इसके लिए स्बीस्थान-ए-इकबाल शब्द का इस्तेमाल किया है और इस किताब में ही मुगलों के हरम के बारे में कुछ खुलासे किए हैं!

वहीं कुछ अन्य लेखकों ने फर्म को महिलाओं के रहने का एक अलग स्थान बताया है यहां महिलाएं राजाओं की इच्छा पूर्ति के लिए आया करते थे हर वर्ग क्षेत्र धर्म संस्कृति की महिला रहती थी ना केवल बादशाह के रिश्तेदार बल्कि उनकी हर जरूरत का ख्याल रखने वाली हर प्रकार की महिला यहां पर होती थी वहीं इस किताब के अनुसार हरम की पहली महिला मुगल काल के दौरान बादशाह की माही होती थी बाबरनामा और हुमायूंनामा में इसके कई उदाहरण भी पेश किए गए हैं जिन्हें जानना भी बेहद आवश्यक है कई ऐसे मौके आते थे कि बादशाह की मां कई अवसरों पर उपस्थित रहती थी वही मां के अलावा सौतेली मां और उप माता यानी की दाई भी रहती थी इतना ही नहीं मां के बाद रानी और दासी ओ का जमावड़ा लगा रहता था!

वही मुगल काल के समय में कई आगरा फतेहपुर सिकरी दिल्ली लाहौर में फर्म हुआ करते थे जहां बादशाह का सबसे ज्यादा समय बीता करता था इनमें कोई भी बाहरी व्यक्ति प्रवेश नहीं कर सकता था इसके लिए वहां पर काफी ज्यादा पहरेदार लगाए जाते थे वही गलत व्यवहार करने वालों को फांसी दे दी जाती थी ऐसे में महिलाओं के हाथ में ही हरम के अंदर की सुरक्षा बड़े स्तर पर होती थी जो महिला एक बार यहां पर आ जाया करती थी उसके बाद यहां से उसका शव ही बाहर निकलता था ऐसे में किताब के दावे के अनुसार 5000 से भी ज्यादा महिला अकबर के हरम में थी इनमें सैकड़ों के साथ बादशाह के संबंध हुआ करते थे हालांकि इतनी बड़ी और कड़ी व्यवस्था होती थी कि कोई जानकारी बाहर भी नहीं आती थी!

About Khabar Bharat Tak

Check Also

अभिताभ बच्चन की बहू बनने से पहले ऐश्वर्या राय ने सलमान और विवेक से ही नही, इन लोगों के साथ भी बनाए संबंध….

विश्व सुंदरी कहीं जाने वाली अभिनेत्री ऐश्वर्या राय की एक्टिंग और खूबसूरती से तो हर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *