देश

विश्वनाथ मंदिर में गैर हिंदुओं का प्रवेश वर्जित वाला साइनबोर्ड

Signboard prohibiting entry of non-Hindus in Vishwanath temple

उत्तराखंड के गुप्तकाशी स्थित विश्वनाथ मंदिर में हाल ही में अन्नकूट मेले का समापन हुआ है। अब इस मंदिर के बाहर एक साइनबोर्ड चर्चा में है। इस पर लिखा है- मंदिर परिसर में गैर हिंदू का प्रवेश प्रति बंधित है।

ईटीवी इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, अन्नकूट मेले के दौरान गैर-हिंदुओं के मंदिर में आने के व्यवहार को देखते हुए यह कदम उठाया गया है. इसके अनुसार, गैर-हिंदू घंटों मंदिर में आकर बैठते थे, लेकिन प्रसाद लेने और टीका लगाने से इनकार कर दिया। इसे देखते हुए स्थानीय लोगों ने इनका बहिष्कार करने का फैसला किया है।

रिपोर्ट में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के जिलाध्यक्ष श्रीराम गोस्वामी को बताया गया है कि गैर हिंदू मंदिर भी मंदिर में आकर माहौल खराब कर रहे थे. वह मंदिर में आने वाली महि लाओं और लड़ कियों पर कमेंट करता था। यहां तक ​​कि वह हिंदुओं की भाव नाओं को ठेस पहुंचाने के लिए शौच के बाद शीतल कुंड में हाथ भी धोते थे।

गोस्वामी गौ सेवा रक्षक के जिला प्रभारी भी हैं। उन्होंने यह भी बताया कि जल्द ही गैर हिंदुओं के लिए मंदिर के बाहर पीने के पानी की व्यवस्था की जाएगी. इसके साथ ही उन्होंने देवस्थानम बोर्ड से जल्द ही मंदिर के बाहर बोर्ड लगाने की अनुमति लेने की भी बात कही है.

गौरतलब है कि इसी साल मार्च में कहा गया था कि उत्तराखंड के कई मंदिरों के बाहर बैनर लगाकर गैर हिंदुओं के प्रवेश पर रोक लगा दी गई थी. इस तरह के बैनर हिंदू युवा वाहिनी द्वारा राज्य के लगभग 150 मंदिरों के प्रवेश द्वारों पर लगाए गए थे।

ये बैनर देहरादून के चकराता रोड, सुधोवाला और प्रेम नगर इलाके में स्थित मंदिरों पर लगाए गए थे। बाद में हिंदू युवा वाहिनी के राज्य (उत्तराखंड) महासचिव जीतू रंधावा के खिलाफ भी देहरादून में प्राथमिकी दर्ज की गई।

उस वक्त रंधावा ने कहा था कि पुलिस ने उन्हें शहर में इस तरह के पोस्टर नहीं लगाने की चेतावनी दी थी. साथ ही उन्होंने प्रशासन से पूछा था कि ‘वे मुसलमानों का ऐसा पक्ष क्यों ले रहे हैं?

मुझे विश्वास नहीं हो रहा है कि उत्तराखंड जैसी जगह पर ऐसा हो रहा है. अगर वे मेरे खिलाफ मामला दर्ज करते हैं तो मुझे कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन मैं करूंगा. सुनिश्चित करें कि इस तरह के पोस्टर उत्तराखंड के सभी मंदिरों के बाहर लगाए जाएं।’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button