Breaking News

नीरज चोपड़ा के PM मोदी के समर्थन करने पर उड़ाया मजाक, बोले…..

भाला फेंकने की स्पर्धा में नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक में देश को पहला गोल्ड मेडल दिला कर इतिहास रच दिया है इस पदक को काफी विशेष भी माना जा रहा है क्योंकि नीरज चोपड़ा ने 100 से अधिक वर्षों में पहली बार ट्रैक एंड फील्ड में भारत को गोल्ड मेडल दिलाया है! किसी भी भारतीय ने एथलेटिक्स में आखिरी पदक 1920 में जीता था टोक्यो ओलंपिक में चोपड़ा ने अपने अच्छे प्रदर्शन और गोल्ड मेडल जीतने का जश्न पूरा देश बना रहा है देश के विभिन्न हिस्सों में खास कर गोल्ड मेडल विजेता के गृह राज्य हरियाणा में खुशी का माहौल लोग जश्न मना रहे हैं सोशल मीडिया पर भी नीरज चोपड़ा को जीत की बधाई दी जा रहे हैं!

वहीं दूसरी ओर इस बीच खुद को वाम पंथी बताने वाले बहुत से लोग नीरज चोपड़ा को बधाई देने और उनकी जीत का जश्न मनाने से कतरा रहे हैं इसका कारण नीरज चोपड़ा के कुछ पुराने ट्वीट्स है जिनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरोधियों ने उनको प्रधानमंत्री का समर्थन करते हुए देखा था यह ट्वीट अब वायरल हो रहे हैं!

साल 2000 आम चुनाव में प्रचंड बहुमत के साथ दोबारा सत्ता में आने पर नीरज चोपड़ा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई देते हुए ट्वीट किया था जिसमें उनका कहना था कि इस ऐतिहासिक जीत के लिए हमारे प्रधानमंत्री को मेरी तरफ से हार्दिक बधाई आपके नेतृत्व में हमारा देश नई ऊंचाइयों को छुए!

नीरज चोपड़ा के गोल्ड मेडल जीतने के बाद उनके कुछ पुराने ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो गए इनको व्यापक रूप से शेयर किया जा रहा है इन के पेट में से एक लोकसभा चुनाव 2019 में प्रचंड बहुमत हासिल करने के बाद बधाई का संदेश है यह भारत में वाम पंथी को रास नहीं आ रहा है और यही कारण है कि वह ओलंपिक में गोल्ड मेडल दिलाने वाले नीरज चोपड़ा से खार खाए बैठे हुए!

ऐसे में पत्रकार रोहिणी सिंह को शायद यह बुरा लग गया कि नीरज चोपड़ा प्रधानमंत्री मोदी के समर्थक है!

वहीं एक अन्य ट्विटर के योजन ने कहा है कि भारतीय पुरुषों विशेष रूप से नीरज चोपड़ा जैसे संगी पुरुषों का जश्न मनाना शर्मनाक है!

Check Also

Google ने दिया भारत की जनता को बड़ा तोहफ़ा, सबसे प्राचीन भाषा संस्कृत समेत भोजपुरी, और मैथली भाषा को गूगल ट्रांसलेट में शामिल किया।

जैसा की आप सबको मालूम है संस्कृत हमारी सभ्यता की सबसे पुरानी भाषा है और …

Leave a Reply

Your email address will not be published.