अजब-गजब

सरसो के तेल आई भारी गिरावट, जानिये दामों में कितना हुआ बदलाव

Mustard oil has come down drastically, know how much has changed in prices

सर्दियों में हल्के तेलों की बढ़ती मांग के बीच बाजार में सस्ते में बिकवाली से बचने के लिए मंडियों में तिलहन की आवक कम होने से देश के प्रमुख तिलहन बाजार में सोयाबीन, मूंगफली समेत ज्यादातर तिलहनों के भाव बढ़त दिखाते हुए बंद हुए। दूसरी ओर, देश में अत्यधिक आयात के कारण सोयाबीन तेल सहित कुछ तिलहनों की कीमतों में गिरावट आई।

कारोबारियों ने कहा कि समीक्षाधीन सप्ताह में सोयाबीन तेल रहित तेल (डीओसी) के लिए पोल्ट्री कंपनियों की स्थानीय मांग के कारण सोयाबीन तिलहन की कीमतों में सुधार दिखा। इससे तेल और तिलहन की बाकी कीमतों पर भी असर पड़ा और उनकी कीमतें गिरावट के साथ बंद हुईं। दूसरी ओर, देश में अत्यधिक आयात के कारण समीक्षाधीन सप्ताह में सोयाबीन तेल की कीमतों में नरमी का रुख दिखाते हुए बंद हुआ।

सूत्रों ने कहा कि पामोलिन के आयातकों को भी 3-4 रुपये प्रति किलो तेल का नुकसान हो रहा है। पामोलिन तेल की कीमतों में सुधार हुआ क्योंकि पामोलिन सीपीओ की तुलना में सस्ता हो गया। उन्होंने कहा कि मूंगफली के डीओसी की स्थानीय मांग के कारण मूंगफली तेल और तिलहन की कीमतों में भी सुधार दिखा।

इसके अलावा पंजाब और हरियाणा में हल्के तेल में बिनौला की मांग बढ़ने से बिनौला तेल की कीमतों में भी सुधार हुआ। इसके साथ ही समीक्षाधीन सप्ताह में नमक निर्माताओं द्वारा रिफाइंड बिनौला की मांग बढ़ने से बिनौला तेल की कीमतों में सुधार हुआ।

सस्ता हुआ सरसों का तेल

सूत्रों ने बताया कि गिरावट के सामान्य रुख के अनुरूप सरसों तेल-तिलहन के भाव भी पिछले सप्ताहांत की तुलना में नुकसान के साथ बंद हुए। उन्होंने कहा कि इस बार किसानों को सरसों की अच्छी कीमत मिलने से सरसों की अगली फसल बंपर होने की संभावना है. इस बार बुवाई का रकबा काफी बढ़ गया है।

सूत्रों ने बताया कि सरसों का भाव पिछले सप्ताह 75 रुपये की गिरावट के साथ 8,850-8,875 रुपये प्रति क्विंटल रह गया, जो पिछले सप्ताह 8,920-8,950 रुपये प्रति क्विंटल था। समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान सरसों दादरी तेल की कीमत 50 रुपये की गिरावट के साथ 17,500 रुपये प्रति क्विंटल रह गई। वहीं, सरसों, पक्की गनी और कच्ची घानी तेल 25-25 रुपये की गिरावट के साथ क्रमश: 2,690-2,715 रुपये और 2,770-2,880 रुपये प्रति टिन हो गए।

सोयाबीन की कीमतों में सुधार

सूत्रों ने कहा कि सोयाबीन के गैर-तेल तेल (डीओसी) की स्थानीय मांग के बीच समीक्षाधीन सप्ताहांत के दौरान सोयाबीन अनाज और सोयाबीन की कीमतें 150-150 रुपये की सुधार के साथ क्रमशः 6,750-6,900 रुपये और 6,600-6,700 रुपये प्रति क्विंटल हो गईं। . वहीं, समीक्षाधीन सप्ताह में सोयाबीन दिल्ली, सोयाबीन इंदौर और सोयाबीन डीगम के भाव क्रमश: 160 रुपये, 210 रुपये और 180 रुपये की गिरावट के साथ क्रमश: 13,220 रुपये, 12,870 रुपये और 11,670 रुपये प्रति क्विंटल रहे। आयात के कारण पर्याप्त मात्रा में तेल। बंद किया हुआ।

मूंगफली तेल और तिलहन की क्या स्थिति है?

मूंगफली के डीओसी के लिए स्थानीय पोल्ट्री कंपनियों की ओर से मांग बढ़ने के कारण समीक्षाधीन सप्ताह में मूंगफली तेल-तिलहन की कीमतों में बढ़त के साथ बंद हुआ। इस दौरान मूंगफली का भाव 50 रुपये की तेजी के साथ 5,900-5,985 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ। गुजरात में मूंगफली तेल 100 रुपये की तेजी के साथ 13,000 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ। जबकि मूंगफली सॉल्वेंट रिफाइंड की कीमत 35 रुपये की तेजी के साथ 1,920-2.045 रुपये प्रति टिन पर बंद हुई।

कच्चा पाम तेल हुआ सस्ता

मांग प्रभावित होने के कारण समीक्षाधीन सप्ताहांत में कच्चा पाम तेल (सीपीओ) 80 रुपये गिरकर 11,170 रुपये प्रति क्विंटल रह गया। जबकि पामोलिन दिल्ली का भाव 50 रुपये की बढ़त के साथ 12,800 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ। पामोलिन कांडला तेल 50 रुपये की तेजी के साथ 11,650 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ। बिनौला तेल की कीमत 20 रुपये की तेजी के साथ 12,220 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुई।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button