Breaking News

करोड़ों मोबाइल यूजर्स के लिए जरूरी खबर, कंपनी ने दी ‘वॉर्निंग’

साइबर फ्रॉड के मामले में काफी तेजी से बढ़ोतरी हो रही है ऐसे में यूजर्स के डाटा और फोन में मौजूद बैंक डिटेल्स के चोरी होने का भी खतरा काफी ज्यादा बढ़ गया है शातिर है कर बड़ी ही चालाकी से यूजर्स को अपने जाल में फंसा रहे हैं वहीं इसी को देखते हुए एयरटेल के सीईओ गोपाल विट्ठल ने ईमेल भेजकर कंपनी की 35 करोड़ से ज्यादा यूजर्स को सावधान रहने की सलाह दी है! गोपाल विट्ठल ने हाल ही में एक करोड़ का भी जिक्र किया है जिसमें जालसाज ने खुद को एयरटेल का एक्जुकिटिव बताकर केवाईसी अपडेट करने के बहाने यूजर से उनके बैंक डिटेल निकलवा लेता है! इस ईमेल में उन्होंने ऐसे वित्तीय धोखाधड़ी और जालसाजों के काम करने की बात कही है! इसके साथ ही ईमेल में उन्होंने इस तरह के फ्रॉड से बचने के लिए कुछ जरूरी बातें भी बताई हैं! आइए जानते हैं डिटेल्स-

फर्जी UPI से सावधान

UPI भुगतान के बढ़ते चलन के कारण आजकल नकली UPI ऐप्स की बाढ़ आ गई है! विट्टल ने अपने ईमेल में कहा, ‘वर्तमान में बाजार में कई फर्जी यूपीआई ऐप और ई-कॉमर्स वेबसाइट हैं, जो एनपीसीआई, भीम और लोगो का उपयोग करके पूरी तरह से प्रामाणिक दिखती हैं! यदि आप इनमें से कोई भी ऐप डाउनलोड करते हैं, तो वे आपसे एमपिन के अलावा आपके बैंक के सभी विवरण दर्ज करने के लिए कहेंगे! इस जानकारी की मदद से हैकर्स यूजर के बैंक अकाउंट से पैसे चुरा लेते हैं! इसी तरह, धोखेबाज भी ओटीटी मांग सकते हैं, उपयोगकर्ताओं को बैंक के अधिकारी होने का नाटक करके अपने बैंक खातों को ब्लॉक-अनब्लॉक या नवीनीकृत करने के लिए कह सकते हैं! उन्होंने कहा ऐसे कॉल्स से सतर्क रहने की जरूरत है!

लुभावने ईमेल, मैसेज और लिंक पर भरोसा न करें

हैकर्स कभी-कभी उपयोगकर्ताओं को अपने जाल में फंसाने के लिए आकर्षक ईमेल या संदेश भेजते हैं! इनमें एक फेक लिंक होता है, जिस पर क्लिक करने के बाद आपकी बैंक डिटेल्स चोरी हो सकती है! इसी तरह, विट्टल ने भी फर्जी रिफंड वाले यूजर्स के ईमेल, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट, वीजा या मास्टरकार्ड से आने वाले रिवार्ड्स को खतरनाक करार दिया है! उन्होंने कहा कि यूजर्स इन मैसेज में दिए गए अटैचमेंट और इंस्टेंट मैसेज डाउनलोड लिंक पर क्लिक न करें! विट्टल ने उपयोगकर्ताओं को अपने फोन में एंटीवायरस स्थापित करने की सलाह दी! यह आपके द्वारा डाउनलोड की गई सभी फाइलों को स्कैन करता है और आपको इस तरह की धोखाधड़ी से भी काफी हद तक बचाता है!

साइबर कैफे या सार्वजनिक वाई-फाई नेटवर्क

ईमेल में विट्ठल ने यूजर्स से साइबर कैफे में मौजूद कंप्यूटर से ऑनलाइन ट्रांजैक्शन नहीं करने को कहा है! इसके साथ ही सार्वजनिक वाई-फाई नेटवर्क पर ऑनलाइन लेनदेन से भी बचना चाहिए!

अपना ओटीपी किसी को न दें

इस प्रकार की धोखाधड़ी से बचने का सबसे सटीक तरीका है कि आप अपनी ग्राहक आईडी, एमपिन, ओटीपी किसी को भी फोन पर न दें! इसके साथ ही अगर आपके पास कोई फेक मैसेज आया है तो उसमें दिए गए लिंक पर गलती से क्लिक न करें! बेहतर होगा कि आप ऐसे मैसेज को फोन से तुरंत डिलीट कर दें!

Check Also

Google ने दिया भारत की जनता को बड़ा तोहफ़ा, सबसे प्राचीन भाषा संस्कृत समेत भोजपुरी, और मैथली भाषा को गूगल ट्रांसलेट में शामिल किया।

जैसा की आप सबको मालूम है संस्कृत हमारी सभ्यता की सबसे पुरानी भाषा है और …

Leave a Reply

Your email address will not be published.