अजब-गजब

यदि गलती से गलत बैंक के एकाउंट में भेज दो पैसे तो करे ये छोटा सा काम,आपके पैसे वापिस आपके एकाउंट में होंगे

If by mistake send money to wrong bank account then do this small work, your money will be back in your account

आज के जमाने में हर कोई ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करना चाहता है क्योंकि बैंक की लाइन से फ्री होकर घर बैठकर ही ऑनलाइन काम करने में अब लोगों को मजा भी आने लग गया है! लेकिन कई बार यह मजा लोगों के लिए एक सजा बन जाता है क्योंकि ऐसा भी हो जाता है कि कोई बैंक अकाउंट की डिजिट अगर गलती से दूसरे नंबर भर दिया जाता है तो पैसा जहां पर आप भेजना चाहते हैं वहां पर नहीं बल्कि कहीं और ही पहुंच जाता है!

ऐसे में इंसान को काफी ज्यादा तकलीफों का सामना करना पड़ जाता है क्योंकि पैसा तो आखिरकार पैसा ही होता है और बड़ी मेहनत के बाद पैसा कमाया जाता है और जब वह पैसा किसी गलत इंसान के हाथों में चला जाता है तो इंसान टेंशन में आ जाता है! फिर वह यह सोचता है कि आखिरकार ही है पैसा मेरा वापस आएगा या नहीं?

यदि यही सवाल आपके मन में भी है कि अगर आपका पैसा गलती से किसी और के अकाउंट में चला जाए और वापसी उसकी होनी है या नहीं तो आज हम आपको कुछ ऐसा ही बताएंगे कि आपका पैसा अगर गलती से कहीं और चला जाता है तो वापस आ सकता है! चलिए जान लेते हैं क्या है प्रोसेस-

दरअसल, अगर आपने गलती से किसी और के अकाउंट में पैसा भेज दिया है तो आपको अपने बैंक में जाना पड़ेगा और बैंक वालों को डिटेल देनी पड़ेगी कि आपने गलती से किसी और के अकाउंट में पैसा भेज दिया है! लेकिन यहां पर भी दो कंडीशन सामने आ जाती है! एक तो आपने जिस बैंक के खाते में पैसे भेजे हैं कि आपका खाता उसी बैंक का है! और दूसरा जिस खाते में आपने पैसे भेजे हैं वह किसी और बैंक का खाता है!

पहली कंडीशन में तो ऐसा होता है कि यदि आपका भी खाता उसी बैंक में हैं और जिस के अकाउंट में अपने पैसे भेजे हैं उसका भी खाता उसी बैंक का है तो आप जाकर बैंक में डिटेल सम्मिट करवाए और वह उस अकाउंट को फ्रीज कर देते हैं और आपका पैसा वापस मिल जाता है!

वहीं दूसरी कंडीशन में भी सेम यही होता है लेकिन जब आप दूसरे बैंक में जाकर यह प्रोसेस करते हैं तो उस बैंक को भी आपको पूरी डिटेल देनी पड़ेगी तब जाकर वह उस धारक का अकाउंट फ्रीज करके आपका पैसा वापस लौटा दिया जाता है!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button