श्रीमद भागवत गीता को राष्ट्रीय ग्रंथ घोषित कर सकती है भारत सरकार,लेने जा रही है ये बड़ा फैसला…

राष्ट्रगान, राष्ट्रीय ध्वज की तरह जल्द ही देश में एक राष्ट्रीय पुस्तक होगी। भारत सरकार श्रीमद्भगवद गीता को राष्ट्रीय ग्रंथ घोषित कर सकती है। इसे लागू करने के लिए सरकार गंभीरता से विचार कर रही है। इसके लिए भारत सरकार विभिन्न मंत्रालयों से राय ले रही है। उल्लेखनीय है कि सरकार यह कवायद महाराष्ट्र से बीजेपी सांसद गोपाल शेट्टी की ओर से भेजे गए पत्र के आधार पर कर रही है.

उल्लेखनीय है कि 5 जुलाई को महाराष्ट्र से बीजेपी सांसद गोपाल शेट्टी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखा था. इस पत्र में उन्होंने गृह मंत्री से श्रीमद्भागवत गीता को राष्ट्रीय ग्रंथ घोषित करने की मांग की है। इस पत्र का जवाब गृह मंत्री शाह ने 18 जुलाई को ही भेज दिया है.

अपर सचिव (समन्वय-1) रेणु सूरी ने एक अगस्त 22 को कार्यालय ज्ञापन में इसकी जानकारी दी है. ज्ञापन के अनुसार गोपाल शेट्टी के पत्र को संबंधित मंत्रालयों को आवश्यक कार्रवाई के लिए भेजने के निर्देश दिए गए हैं.

गृह मंत्रालय ने इस मामले में शिक्षा मंत्रालय से भी राय मांगी है। श्रीमद्भागवत गीता को राष्ट्रीय ग्रंथ घोषित किए जाने के संबंध में शिक्षा मंत्रालय ने भी 10 अगस्त को अपनी टिप्पणी भेजी है। इसके बाद अब गृह मंत्रालय ने श्रीमद्भागवत गीता को राष्ट्रीय पुस्तक घोषित करने के संबंध में संस्कृति मंत्रालय से राय मांगी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.