Breaking News

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को लेकर राजा महेंद्र प्रताप के वंशज ने कहा, जमीन वापस करो नहीं तो…

Descendants of Raja Mahendra Pratap said about Aligarh Muslim University: उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी इस समय सुर्खियों में बनी हुई है क्योंकि राजा महेंद्र प्रताप के वंशज इन ने लीज के 90 साल पूरे होने पर इस विश्वविद्यालय को पत्र लिखकर उनकी जमीन को खाली करने के लिए कह दिया गया है! सोमवार को विश्व विद्यालय की एकेडमिक काउंसिल की बैठक में वीसी प्रफेसर तारीख मंसूर की अध्यक्षता में इस मामले को लेकर समिति गठित की गई हैं! समिति एकेडमी की अगली बैठक में अपने रिपोर्ट को सौंप देगी!

विद्यालय में आयोजित इस बैठक के अंदर बताया गया है कि राजा महेंद्र प्रताप के वंशज की ओर से विश्वविद्यालय को एक पत्र लिखा गया है जिसके अंदर कहा गया है कि यूनिवर्सिटी का तिकोनिया पार्क एवं सिटी स्कूल दोनों राजा महेंद्र प्रताप सिंह की जमीन पर बने हुए है!विश्वविद्यालय को यह जमीन 90 साल पहले लीज पर दी गई थी जिसकी अवधि अब खत्म हो गई है!

इस बैठक के अंदर बताया गया है कि उनके वंशज की ओर से यह प्रपोजल भी दिया गया है कि तिकोनिया पार्क की जमीन उनको वापस कर दी जाए साथ ही उसकी जमीन पर बने विश्वविद्यालय के सिटी स्कूल का नाम राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम पर करने की मांग की है!

कौन थे राजा महेंद्र प्रताप सिंह?

राजा महेंद्र प्रताप सिंह आजादी के आंदो लन के से नानी थे और मार्क्स वादी विचारों से प्रभावित थे उन्होंने अफगानिस्तान में निर्वाचित भारतीय सरकार का गठन भी किया था वह स्वदेशी आंदो लन के अंदर भी शामिल रहे हैं आजादी के बाद वह सांसद बने और इसी के चलते उन्होंने जनसंघ के उम्मीदवार अटल बिहारी वाजपेई को हराया था!

साल 2019 में योगी आदित्यनाथ ने यह ऐलान किया था कि अलीगढ़ विश्वविद्यालय को जमीन दान करने वाले राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम पर अलीगढ़ में विश्वविद्यालय बनाया जाएगा लेकिन योगी आदित्यनाथ के इस आ रोप को सिरे से AMU ने नकार दिया था और कहा था कि एएमयू राजा महेंद्र प्रताप सिंह की जमीन पर नहीं बना हुआ!

Check Also

Google ने दिया भारत की जनता को बड़ा तोहफ़ा, सबसे प्राचीन भाषा संस्कृत समेत भोजपुरी, और मैथली भाषा को गूगल ट्रांसलेट में शामिल किया।

जैसा की आप सबको मालूम है संस्कृत हमारी सभ्यता की सबसे पुरानी भाषा है और …

Leave a Reply

Your email address will not be published.