Breaking News

तालिबान के कब्जे से बाइडेन और अशरफ गनी की कॉल लीक, जानिये क्या बात हुई थी

तालिबान ने इस साल 15 अगस्त को अफगानिस्तान की राजधानी काबुल पर कब्जा कर लिया था। इससे ठीक 23 दिन पहले 23 जुलाई को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी के बीच आखिरी बातचीत हुई थी। रॉयटर्स ने 23 जुलाई को बिडेन और गनी के बीच आखिरी फोन कॉल के कुछ हिस्सों को जारी किया है।

बाइडेन और अशरफ गनी के बीच करीब 14 मिनट तक बातचीत चली। उन्होंने सै न्य सहायता, राजनीतिक रणनीति आदि पर चर्चा की। लेकिन उनमें से किसी ने भी तालिबान के पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा करने की संभावना का कोई उल्लेख नहीं किया।

रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, बिडेन चाहते थे कि अशरफ गनी ऐसा माहौल बनाएं कि तालिबान जीत नहीं रहा। बाइडेन ने गनी से कहा, “अफगानिस्तान और दुनिया के कुछ हिस्सों में तालिबान के खिलाफ ल ड़ाई में चीजें ठीक नहीं चल रही हैं। हमें एक अलग तस्वीर पेश करने की जरूरत है, चाहे वह सच हो या नहीं।”

बिडेन चाहते थे कि राष्ट्रपति अशरफ गनी की ओर से जनरल बिस्मिल्लाह खान को तालिबान से ल ड़ने की जिम्मेदारी सौंपी जाए। उस समय बिस्मिल्लाह खान अफगानिस्तान के रक्षा मंत्री थे। साथ ही बाइडेन ने गनी को आश्वासन दिया था कि अमेरिकी सेना द्वारा तैयार किए गए तीन लाख अफगान सैनिक 70-80 हजार तालि बानियों का मुकाबला कर सकते हैं।

बाइडेन ने कहा, “आपके पास स्पष्ट रूप से सबसे अच्छी सेना है। आपके पास उनके 70-80 हजार तल बानियों की तुलना में तीन मिलियन सश स्त्र बल हैं और वे स्पष्ट रूप से अच्छी तरह से ल ड़ने में सक्षम हैं। अगर हम जानते हैं कि योजना क्या है और हम क्या कर रहे हैं, तो हम नज़दीकी हवाई सहायता प्रदान करना जारी रखेगा। कौन जानता है कि अगस्त के अंत तक क्या हो सकता है।”

बिडेन ने गनी को आश्वासन दिया, “हम कूटनीतिक, राजनीतिक, आर्थिक रूप से कठिन संघर्ष जारी रखेंगे कि आपकी सरकार न केवल जीवित रहे, बल्कि कायम रहे और आगे बढ़े क्योंकि यह स्पष्ट रूप से अफगानिस्तान के लोगों के हित में है कि आप सफल हों और आप नेतृत्व करें. मैं जानता हूं कि एक ओर तो ऐसी बातें सीधे आपसे कहना मेरे लिए अभिमान है, मैं आपको लंबे समय से जानता हूं. आप एक प्रतिभाशाली और सम्मानित व्यक्ति हैं. लेकिन मुझे नहीं पता कि आप जागरूक हैं या नहीं।”

वहीं गनी ने बाइडेन को बताया कि कैसे पाकिस्तान तालिबान को पूरा समर्थन दे रहा है. गनी ने कहा था, ‘हम बड़े हम ले का सामना कर रहे हैं। पाकिस्तान तालिबान का पूरा समर्थन कर रहा है, कम से कम 10 से 15 हजार अंतरराष्ट्रीय आतं कवादी मुख्य रूप से पाकिस्तानी हैं। गनी ने यह भी बताया कि उन्होंने तालिबान के साथ बातचीत करने की भी कोशिश की। लेकिन तालिबान ने कोई झुकाव नहीं दिखाया।

Check Also

VIDEO: जब दोस्तों की शर्तें की वजह से टॉपलेस होकर मैदान में घुस गई महिला, इंटरनेट पर वीडियो ने मचाई सनसनी..

खेल का मैदान एक ऐसी जगह है जहां पर मौज मस्ती की कोई भी लिमिट …

Leave a Reply

Your email address will not be published.