Breaking News

विक्रम बत्रा की इंटरव्यू पर फूली नहीं समा रही थी बरखा दत्त, ट्विटर पर लगा बड़ा झटका

कैप्टन विक्रम बत्रा के जीवन पर आधारित फिल्म ‘शहशाह’ की रिलीज के बाद सोशल मीडिया पर मिली-जुली प्रतिक्रियाएं देखने को मिल रही हैं. विक्रम बत्रा के सर्वोच्च बलिदान को लेकर कुछ लोग भावुक हो रहे हैं. वहीं कुछ लोगों का कहना है कि सिद्धार्थ मल्होत्रा इस फिल्म के साथ न्याय नहीं कर पाए. हालांकि इस बीच बरखा दत्त वो शख्स हैं जो एक अलग ही लेवल पर सुर्खियों में बनी रहती हैं।

दरअसल, एक ट्विटर यूजर ने शेरशाह को देखकर ट्विटर पर लिखा, “शेरशाह देखी कल, इसने मुझे याद दिलाया कि आखिर कार गिल में बरखा दत्त ने क्या किया था। फिल्ममेकर को उसका पार्ट भी दिखाना चाहिए था। कैप्टन बत्रा की ऊर्जा हमारे जेहन में दौड़ती है। कुछ ही लोग उस ऊँचाई पर जा पाते हैं। भावपूर्ण नमन।”

इस ट्वीट में यूजर जो कहना चाहता था वह गलत था। हालांकि, बरखा दत्त ने इसे अपनी तारीफ के रूप में लिया और आभार व्यक्त करना शुरू कर दिया। लेखक ज्योति नाम के एक ट्विटर यूजर के ट्वीट पर उन्होंने लिखा, “धन्यवाद। ये दिल माँगे मोर, मेरा इंटरव्यू था और ये मेरे दिमाग और दिल में हमेशा रहेगा।”

इस ट्वीट के बाद एक पल ऐसा भी आया, जहां बरखा दत्त की दु र्दशा पर ज्यादातर ट्विटर यूजर्स हंसने लगे। दरअसल, बरखा दत्त के ट्वीट की जगह उस यूजर ने लिखा, “आपका स्वागत है, लेकिन मेरा मतलब था कि आपने पाकिस्तानी सेना को लोकेशन का एक्सेस दिया था। आगे की शर्मिंदगी से बचने के लिए आप मुझे ब्लॉक कर सकती हैं।”

अब ये दोनों ट्वीट और उनके जवाब स्क्रीनशॉट के साथ शेयर किए जा रहे हैं और लोग बरखा दत्त की जमकर खिल्ली उड़ा रहे हैं. मालूम हो कि कारगिल युद्ध के दौरान बरखा दत्त का इंटरव्यू हमेशा वि वादों में रहा है. लोगों का यह आ रोप हमेशा से रहा है कि बरखा दत्त की वजह से कार गिल में कम से कम एक बार तो सेना का भारी नुकसान हुआ था.

लेफ्टिनेंट जनरल मोहिंदर पुरी ने अपनी किताब कार गिल: टर्निंग द टाइड में भी पूरी घट ना का जिक्र किया है। उन्होंने बताया है कि बरखा ने किस तरह ऑप रेशन का सीधा प्रसारण किया था, जिसे पूरी गोपनीयता के साथ अंजाम दिया जाना था. हालांकि किताब यह साबित नहीं करती है कि बरखा की रिपोर्टिंग से भारत को कोई नुकसान हुआ है, लेकिन उनकी रिपोर्ट निश्चित रूप से भारत के लिए चिंता का विषय बनी और किताब इस बात की ओर भी इशारा करती है।

Check Also

Google ने दिया भारत की जनता को बड़ा तोहफ़ा, सबसे प्राचीन भाषा संस्कृत समेत भोजपुरी, और मैथली भाषा को गूगल ट्रांसलेट में शामिल किया।

जैसा की आप सबको मालूम है संस्कृत हमारी सभ्यता की सबसे पुरानी भाषा है और …

Leave a Reply

Your email address will not be published.