देश

भारत में कोयले की किल्लत को लेकर अमित शाह ने की समीक्षा, दिए यह आदेश

Amit Shah reviewed the coal shortage in India, gave this order

हाल ही में एक खबर सामने आई थी जिसके चलते मालूम चला था कि देश के अंदर कोयले की किल्लत आ गई है और अब इन्हीं खबरों के बीच गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को स्थिति की समीक्षा के लिए केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह और कोयला मंत्री पढ़ना जोशी से मुलाकात की है!

बैठक में मंत्रालय और एनटीपीसी के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद रहे! सूत्रों ने बताया है कि बैठक 1 घंटे तक चली है और अमित शाह ने स्थिति की समीक्षा की है और बैठक में उपस्थित सभी लोगों से देशभर के ताप विद्युत संयंत्रों को कोयले की आपूर्ति सुनिश्चित करने को कहा है!

वही कोयला मंत्रालय ने आश्वस्त किया है कि बिजली संयंत्रों की मांग को पूरा करने के लिए देश में पर्याप्त कोयला उपलब्ध है कोयला मंत्रालय ने रविवार को एक बयान जारी किया जिसके अंदर कहा था कि कोयला मंत्रालय है आश्वस्त करता है कि बिजली संयंत्रों की मांग को पूरा करने के लिए देश में पर्याप्त कोयला उपलब्ध है बिजली आपूर्ति बाधित होने की आशंका पूरी तरीके से गलत है!

बिजली संयंत्र के पास कोयले का स्टॉक लगभग 72 lakh ton है जो 4 दिनों की आवश्यकता के लिए पर्याप्त है! कोल इंडिया लिमिटेड के पास 400 lakh ton से अधिक कोयला है जिसकी बिजली संयंत्रों को आपूर्ति की जा रही है!

वहीं रविवार को केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने दिल्ली की वितरण कंपनियों को बिजली की आपूर्ति करने वाले संयंत्रों सहित सभी ताप विद्युत संयंत्रों के कोयले के भंडार की स्थिति की भी समीक्षा की थी वहीं इससे पहले बिजली मंत्रालय का कहना था कि कोयला मंत्रालय और कोल इंडिया ने आश्वासन दिया है कि बिजली संयंत्रों की मांग को पूरा करने के लिए देश के पास पर्याप्त कोयला उपलब्ध है!

बिजली मंत्रालय ने अपने बयान के अंदर कहा था कि बिजली आपूर्ति में व्यवधान का कोई भी तरीके से गलत है 4 दिनों से अधिक की आवश्यकता के द्वारा कोयले की आपूर्ति में तेजी लाई जा रही है बिजली संयंत्र में धीरे-धीरे सुधार होगा! वहीं पिछले हफ्ते दिल्ली के मुख्यमंत्री ने देश के प्रधानमंत्री को एक पत्र में संयंत्रों को कोयले की कम आपूर्ति के कारण संभावित बिजली संकट के बारे में विस्तार किया था!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button