विदेश

जाते-जाते भी तालिबान के लिए बन गया सिरदर्द ‘अमेरिका’, जानिए कैसे?

America did this work on the go

खबर यह आ रही है कि अफगानिस्तान से अब अमेरिका पूरी तरीके से वापस लौट चुका है काबुल से अमेरिका के आखिरी विमान के उड़ान भरने के बाद तालिबान अफगानिस्तान में जश्न मनाता हुआ दिख रहा है तो वहीं दूसरी ओर अमेरिका ने जाते-जाते भी अफगानिस्तान की नई सत्ता को झटका दे दिया है!

दरअसल सोमवार को अमेरिकी सेना ने देश छोड़ने से पहले काबुल एयरपोर्ट पर बड़ी संख्या में मौजूद विमानों, सश स्त्र वाहनों और यहां तक कि हाईटेक रॉ केट डिफेंस सिस्टम तक को डिसएबल कर दिया! अमेरिकी जनरल ने इस बात की जानकारी खुद की है!

ऐसे में अमेरिका के सेंट्रल कमांड के मुखिया जनरल कैनेथ मेकेंजी ने बताया है कि हामिद करजई एयरपोर्ट पर मौजूद 73 विमानों को सेना ने डिमिलिटराइज्ड कर दिया है जिसका अर्थ है कि अब यह विमान इस्तेमाल नहीं किए जा सकेंगे! उन्होंने कहा कि यह विमान अब कभी नहीं उड़ सकेंगे उन्हें कभी भी कोई भी संचालित नहीं कर पाएगा निश्चित रूप से वह फिर कभी नहीं उड़ पाएंगे!

वहीं उन्होंने आ गई यह भी कहा कि 14 अगस्त को बचाना अभियान शुरू करते हुए अमेरिका ने करीब 6000 सैनिकों को काबुल एयरपोर्ट पर तैनात किया था इसकी वजह से अब हवाई अड्डे पर 70 MRAP बख्तरबंद वाहनों को भी खत्म कर दिया गया है इस तरीके के एक वाहन की कीमत 10 लाख डॉलर है! वह इसके अलावा 27 ‘हम्वीज’ वाहन भी डिसएबल कर दिए गए हैं जिन्हें अब कभी कोई भी इस्तेमाल नहीं कर सकेगा!

वही मेकेंजी ने आगे कहा कि हमने इन सिस्टम ओं को अफगानिस्तान से अंतिम विमान उड़ने तक आखिरी मिनट तक चलाया इन सिस्टम ओं को ब्रेकडाउन करना जटिल और समय लेने वाली प्रक्रिया है इसलिए हमने इस स्तनों को डिमिलिटराइज्ड किया ताकि इसका कोई इस्तेमाल ना कर सके!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button