Breaking News

पंजाब, राजस्थान के बाद UP में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कुछ यूं बिखरता जा रहा है कांग्रेस का कुनबा…

अगले साल विधानसभा के उत्तर प्रदेश में चुनाव होने वाले हैं और ऐसे में जैसे जैसे चुन नजदीक आते जा रहे हैं वैसे वैसे नेताओं का दल बदलने का सिलसिला बढ़ता जा रहा है! वैसे तो चुनाव के अंदर ऐसी तस्वीर देखी जाती रही है लेकिन इस बार सबसे ज्यादा नुक्सान उत्तर प्रदेश कांग्रेस को उठाना पड़ रहा है! एक तरफ प्रियंका वाड्रा गांधी कांग्रेस पार्टी को मजबूत करने के लिए लखनऊ में ही डेरा जमाए हुए हैं तो वहीं दूसरी ओर उनका कुनबा बिखरता हुआ जा रहा है!

पिछले कुछ महीनों के अंदर ही उत्तर प्रदेश कांग्रेस के कई दिग्गज नेताओं ने पार्टी को छोड़ दिया है ऐसे में नेतृत्व की कमी से जूझ रही कांग्रेस पार्टी के लिए यह एक गंभीर स्थिति पैदा हो गई है! तो आइए जानते हैं कुछ नेताओं के बारे में जिन्होंने पार्टी को छोड़ दिया है!

गयादिन अनुरागी – प्रदेश उपाध्यक्ष – हमीरपुर

गयादीन अनुरागी पार्टी के उपाध्यक्ष थे। बुंदेलखंड में उनकी अच्छी पैठ है। वह हमीरपुर से कांग्रेस विधायक रह चुके हैं। अनुरागी ने पार्टी छोड़ दी है.

विनोद चतुर्वेदी – पूर्व विधायक – जालौन

बुंदेलखंड से एक और मजबूत कांग्रेसी ने पार्टी छोड़ दी है. विनोद चतुर्वेदी सपा में शामिल हो गए हैं। वह कांग्रेस से विधायक रह चुके हैं। उनका कांग्रेस पार्टी से पुराना नाता है।

जितिन प्रसाद – पूर्व केंद्रीय मंत्री – शाहजहांपुर

जितिन प्रसाद को कांग्रेस की राजनीति विरासत में मिली थी। उनके पिता जितेंद्र प्रसाद एक पुराने कांग्रेसी थे। जितिन खुद केंद्र में मंत्री रह चुके हैं लेकिन, उन्होंने कांग्रेस छोड़ दी। बीजेपी ने उन्हें मंत्री बनाया है. शाहजहांपुर और लखीमपुर में जितिन की राजनीतिक पैठ अच्छी मानी जाती है.

ललितेश त्रिपाठी – प्रदेश उपाध्यक्ष – मिर्जापुर

जितिन की तरह ललितेश को भी कांग्रेस की राजनीति विरासत में मिली। ललितेश यूपी के सीएम रहे कमलापति त्रिपाठी के परपोते हैं। वह पार्टी में प्रदेश उपाध्यक्ष और प्रियंका गांधी के बेहद करीबी भी थे। फिलहाल उन्होंने किसी पार्टी में जाने के लिए अपने पत्ते नहीं खोले हैं.

अन्नू टंडन – उन्नाव

उन्नाव से कांग्रेस सांसद रहे अन्नू टंडन ने पिछले साल पार्टी छोड़ दी थी। वह 15 साल तक पार्टी से जुड़ी रहीं। फिलहाल सपा में हैं।

राजकिशोर सिंह – बस्ती

2019 में कांग्रेस से लोकसभा चुनाव लड़ने वाले बस्ती के नेता राजकिशोर सिंह ने भी पिछले साल कांग्रेस पार्टी छोड़ दी थी। वे बसपा में गए हैं। बसपा उनकी पुरानी पार्टी रही है। 2002 में, राजकिशोर बस्ती की हरैया सीट से विधायक बने और बसपा सरकार में मंत्री भी रहे।

शैलेंद्र सिंह – एआईसीसी

बलिया के शैलेंद्र सिंह अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य थे। कांग्रेस पार्टी का भी उनसे पुराना नाता था, लेकिन उन्होंने पार्टी नेतृत्व पर उपेक्षा का आरोप लगाकर हाथ भी छोड़ दिया.

राजेश सिंह – एआईसीसी

बलिया के राजेश सिंह छात्र जीवन से कांग्रेसी थे, लेकिन अब उन्होंने पार्टी छोड़ दी है। वे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य थे। एनएसयूआई और प्रदेश कांग्रेस कमेटी में कई पदों पर रह चुके राजेश सिंह ने पार्टी नेतृत्व पर उपेक्षा का आरोप लगाया था।

अदिति सिंह – रायबरेली

अदिति सिंह रायबरेली से विधायक हैं। तकनीकी रूप से वह कांग्रेस में हैं लेकिन। व्यावहारिक रूप से पार्टी से कोई जुड़ाव नहीं है। अदिति लंबे समय से भाजपा के करीब और कांग्रेस से दूर हैं।

इमरान मसूद – राष्ट्रीय सचिव, सहारनपुर

पश्चिमी यूपी के इस बड़े नेता को लेकर चर्चा शुरू हो गई है, वह जल्द ही पार्टी छोड़ देंगे. मसूद अभी भी पार्टी में हैं लेकिन, ये बवाल तब शुरू हुआ जब उन्होंने एसपी की तारीफ की. कुछ दिनों बाद उनके कांग्रेस पार्टी से अलग होने की खबर मिल सकती है।

Check Also

Web Series ‘सेक्रेड गेम्स’ में Bold सीन देने वाली Subhadra ने कराया ऐसा फोटोशूट, मुंह से निकल जाएगा-Uff

नवाजुद्दीन सिद्दीकी के साथ बोल्ड सीन करने वाली एक्ट्रेस राजश्री देशपांडे का नया फोटोशूट वायरल …

Leave a Reply

Your email address will not be published.