Breaking News

UP के 18 मुस्लिम परिवारों ने अपनाया हिंदू धर्म, कहि ये बात

उत्तर प्रदेश के शामली जिले के कांधला के रहने वाले मोहम्मद राशिद 13 साल के थे, जब उनके पिता ने इस्लाम अपना लिया था। परिवार बंजारा समुदाय से आता है, जिसने हमेशा मृ तकों के लिए एक क ब्रगाह पाने के लिए संघर्ष किया है। इसके लिए उन्होंने इस्लाम कबूल करने का रास्ता अपनाया। हालांकि, जमीन की उपलब्धता मुश्किल बनी रही। अब कम से कम 18 बंजारा मुसलमान मृ तकों के लिए जमीन के आश्वासन के बाद हिंदू धर्म में फिर से शामिल हो गए हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की बाकी 200 लोगों को ‘घर वापसी’ करने की योजना है।

25 साल के हो चुके राशिद अब विकास कुमार बन गए हैं। “स्थानीय मंदिर के लोगों ने शव को दफ नाने के लिए जमीन देने का वादा किया था। मुझे याद है बचपन में मैं होली और दिवाली मनाता था। फिर मेरे पिता उमर अहमद ने इस्लाम धर्म अपना लिया। लेकिन अब मैं अपने फैसले खुद लूंगा। 4 अगस्त को, राशिद और परिवार के 13 सदस्यों ने सूरजकुंड मंदिर में एक ‘शुद्धिकरण समारोह’ में हिंदू धर्म अपनाया। इनमें राशिद की पत्नी मंजू बानो और उनके 4 बच्चे शामिल हैं। राशिद के भाई आदिल और दीपक ने भी अपनी पत्नी और बच्चों के साथ धर्म परि वर्तन किया। तीन बहनों और माता-पिता के साथ, यह संख्या बढ़कर 18 हो गई।

शुद्धि करण करने वाले यशवीर महाराज ने बताया कि वह लगातार परिजनों से संपर्क कर हिंदू धर्म अपनाने को लेकर उन्हें विश्वास में ले रहे थे. हालांकि शामली की डीएम जसजीत कौर ने कहा कि अभी कानूनी परिवर्तन होना बाकी है। डीएम ने कहा कि वे मुस्लिम से हिंदू नाम बदलना चाहते हैं। तकनीकी रूप से ये प्रक्रियाएं अभी तक नहीं हुई हैं। यह परिवार कांधला के राय जडगन मोहल्ले में रहता है। यहां की अधिकांश आबादी निरक्षर है और मजदूरी का काम करती है। उत्तर प्रदेश में बंजारा समुदाय को अनुसूचित जनजाति का दर्जा प्राप्त है। खानाबदोश जाति बंजारा समुदाय 17वीं शताब्दी से हिंदू और मुस्लिम दोनों धर्मों का रहा है। मुसलमानों में तुर्किया और मुकेरी, ये दो धाराएँ हैं।

आरएसएस की स्वयंसेवक रिक्की रावत ने कहा कि हमने प्रशासन को पत्र लिखकर बंजारा समुदाय के अधिक से अधिक लोगों को धर्मां तरण कराकर जमीन उपलब्ध कराने को कहा है. वहीं बीजेपी पार्षद दीपक सैनी ने एक कदम आगे बढ़ते हुए बंजारों को भविष्य में मुख्यधारा से जोड़ने के लिए मृ तकों के अंतिम सं स्कार की तैयारी की योजना बताई. वहीं, राशिद की पत्नी मंजू बानो, जो अब मंजू देवी हो गई हैं, चिंता व्यक्त करती हैं कि वे हिंदू धर्म में परि वर्तित हो रही हैं, लेकिन इसमें संदेह है कि जमीन दफ नाने के लिए कहां उपलब्ध होगी।

Check Also

Google ने दिया भारत की जनता को बड़ा तोहफ़ा, सबसे प्राचीन भाषा संस्कृत समेत भोजपुरी, और मैथली भाषा को गूगल ट्रांसलेट में शामिल किया।

जैसा की आप सबको मालूम है संस्कृत हमारी सभ्यता की सबसे पुरानी भाषा है और …

Leave a Reply

Your email address will not be published.